Banslochan

  • Sale
  • Rs. 475.00
  • Regular price Rs. 700.00


Vanshlochan (वंश्लोचन)

  1. यह Bamboo Female Tree में से निकलना जाता है। इसमें silica 70-90% होता है। यह ज़्यादातर फेफड़ों (Lungs) की बीमारियों में प्रयोग किया जाता है।
  2. वंश्लोचन में निम्नलिखित Properties पायी जाती है- एडैप्टोजेनिक (Adaptogenic), एंटासिड (Antacid), एंटी-गठिया (Anti-arthritic), एंटीबैक्टीरियल (Antibacterial), एंटी-कैंसर (Anti-cancer), एंटी-गौट (Anti-gout), एंटी-हाइपरटेंसिव (Anti-hypertensive), एंटी-म्यूटेजेनिक (Anti-mutagenic), एंटी-अस्पष्ट (Anti-unclear), एंटी-ऑक्सीडेंट (Anti-oxidant), एंटीप्रेट्रिक (Antipyretic), एफ़्रोडायसियाक (Aphrodisiac), एस्ट्रिंगेंट (Astringent), ब्रोंकोडाइलेटर (Bronchodilator), डेमुलेंट (Demulcent), एक्सपेक्टरेंट (Expectorant), हल्के डायरेक्टिक (Mild Diuretic), हल्के ज्वरनाशक (Mild Antipyretic).
  3. वंश्लोचन अस्थमा, कफ, बुखार, बालों का झड़ना, गैस की समस्या (gastritis), मुँह में अलसर (mouth ulcer) एवं जो बच्चे मिट्टी या चाक खाते है इनके इलाज में प्रयोग होता है।
  4. यह शरीर की रोग प्रतिरोधक शक्ति (immunity) को बढ़ाता है। यह साँस की समस्या में बहुत लाभ देता है। वंश्लोचन खाने से तंत्रिकाओं (nerves) और मांसपेशिया (muscles) मजबूत होती है।
  5. वंश्लोचन शरीर की कमज़ोरी को दूर करता है।
  6. वंश्लोचन खाने से हड्डियो का फ़्रैक्चर हल्दी ठीक होता है।
  7. वंश्लोचन का प्रयोग अत्यधिक मात्रा में नहि करना चाहिए।
  8. कमज़ोरी या हड्डियों में दर्द होने पर एक चम्मच वंश्लोचन पाउडर आधा कप दूध के साथ सुबह-शाम लेने से लाभ होता है।
  9. महावरी के दोरान असहनीय दर्द एनीमिया में भी वंश्लोचन का इस्तेमाल लाभकारी है।
  10. पथरी होने पर इसका प्रयोग करे। कफ की शिकायत होने पर वंश्लोचन को शहद में मिलाकर लेने से आराम मिलता है।